अच्छाई की थेली और बुराई की थेली दोनों में क्या फर्क है ?



अच्छाई की थैली और बुराई थैली दोनों में क्या फर्क है ?













क चोराहे पर तीन आदमी मिले | तीनो अपने -अपने  कंधे पर दो झोले लटकाये हुए थे | अपनी लम्बी यात्रा के कारण,तीनो आदमी थक गए थे | लेकिन एक यात्री के चेहरे पर मुस्कान था... और उत्साह का भाव था | लेकिन,दूसरा आदमी थोडा निराश था | तीसरा आदमी पूरा मुरझाया हुआ था |


Alo read : Android mobile me slide screen loack ko unloack karke paisa kaise kamaya jaata hai ?

               English to hindi me typing kese kare fast me typing ke liye best free tool

            
              ' तीनो आदमी एक पैर के छाया में बैठकर सुस्ताने लगे '
तीनो आदमी में बातचीत शुरू हो गए |
कोन  कहा से आ रहे हैं ?
और कहा जा रहे हैं ? उसके झोला सब में क्या सब है ? यही सब बातचीत सुरु हो गई |

एक आदमी बोला  - मैंने अपने झोले में कुटुम्बियो और उपकारी मित्रो की भलाईयाँ भर रखी हैं ,
और सामने की झोलियाँ में उन लोगो की बुराईयाँ रखी है |
तीसरा आदमी से उन दोनों आदमी ने पूछा तुम्हारे झोला में क्या रखा है भाई...?
वह आदमी बोला - मेने भी अच्छाई की 'थेली' आगे और पीछे की थेली में बुराई  भर रखी है' लेकिन हमारे पीछे की थैली में एक छेद है  |
इसलिए बुराईयाँ कभी टिकती नहीं है | एक-एक कर छेद के द्वारा गिर जाती है |  और पीछे का वजन भी हल्का हो जाता है | जिस आदमी ने आगे की झोला में अच्छाईयाँ और पीछे की झोला में बुराईयाँ भर रखी थी, वह आदमी बहुत ही परसन्न था,
        "क्योंकि चलते समय उसकी नजर हमेसा अच्छाई पर ही पड़ती है "
            "और बुराईयाँ को वह भूलता  रहता है "

                  
               
                  Airtel number ki top 15 ussd code ki list jaane


जिसके थेली में छेद छेद था वह आदमी उत्साह से भी भरा रहता था |
    ' क्योंकि चलते समय वह आदमी आगे लटकी अच्छाइयों  को वह देखता ही था '
उस पर बुराइयों का नजर का वजन भी कम था वे चलते समय धीरे -  धीरे  गिर जाती थी | लेकिन, जिसने अच्छाइयों की थैली पीछे लटका रखी थी, वह हमेशा थका हुआ और निराश रहता था |




तो दोस्तों आपने इस कहानी आपने जरुर कुछ सिखा होगा |  आपने इसमें देखा की  'अच्छाई की थेली' को आगे रखने वाले आदमी कितना प्रशन्न था  जबकि, बुराई की थेली आगे रखने वाले हर वक्त वह निराशा रहते थे | इसलिए मित्रो आपको  भी अच्छाई की थेली आगे रखना चाहिए | ताकि आप पर प्रश्नता की भाव बने रहे | अच्छाई की थेली का मतलब आपकी अच्छी सोच होनी चाहिए जो आपको आपकी मंजिल की सीढ़ी तक पंहुचा सके | अगर ये पोस्ट आपको अच्छा लगे तो आप अपनी राय को जरुर  कमेन्ट में लिखे | और आप अपने दोस्तों से भी शेयर करना न भूले धन्यवाद मित्रो |




                               


Related Post
Previous
Next Post »

7 comments

Click here for comments
HindIndia
admin
December 8, 2016 at 12:46 AM ×

बहुत ही अच्छा post है, share करने के लिए धन्यवाद। :) :)

Reply
avatar
December 12, 2016 at 3:23 AM ×

nice post Ajay Gupta thanks For Sharing.

Reply
avatar
Ajay Gupta
admin
December 12, 2016 at 7:24 AM ×

thanks superhitstatus g

Reply
avatar
K. VERMA
admin
January 22, 2017 at 8:26 PM ×

Nice Story....
Thx For Sharing

Reply
avatar
Ajay Gupta
admin
February 1, 2017 at 5:56 AM ×

Thank u # k.verma g aapko hamari traf se happy basant panchmi ki subhkamnaie

Reply
avatar
February 25, 2017 at 9:12 AM ×

बहुत ही बढ़िया कहानी

Reply
avatar

*Agar aapka koi bhi sawal hai to aap yaha coment karke puchh sakte hain. ConversionConversion EmoticonEmoticon